रोमिंग जर्नलिस्ट

गुरुवार, 22 मार्च 2012

यूपी के बेरोजगारी बम में बड़ा दम

दिनेश चंद्र मिश्र
लखनऊ। टीईटी उत्तीर्ण मोर्चा के बैनर तले मंगलवार को राजधानी की सडक़ों पर बेरोजगारी बम की शक्ल में युवा से लेकर अधेड़ हो गए हजारों लोग को हुजूम दिखा। इनके कंधों पर टंगे झोले में टीईटी उत्तीर्ण प्रमाणपत्र संग जाब की जंग में काम आने वाले जरूरी कागजात तो दिल में हक के लिए किसी से भी टकराने की ताकत की झलक आपको हाव-भाव देखकर हो जाएगा। लाठी-गोली और पानी की बौछार खाकर तरबतर होकर घर लौट रहे दर्जनों अभ्यर्थियों से चारबाग रेलवे स्टेशन पर इस खबरनवीस ने बात की। उनके दिल,दिमाग से जुडऩे की कोशिश में हुए सवाल-जवाब में बेरोजगारी बम से वास्ता पड़ा।
हुसैनचौराहे के पास से पुलिस ने लाठी से मारने का डर दिखाने पर भी दीवार की तरह खड़ा रहे सैकड़ों नौजवानों ने पानी की बौछार अपने सीने पर रोकते हुए यह बताया कि गोली खाने का भी दम है, क्योंकि बेरोजगारी बम में बड़ा दम है। पानी की बौछार को छाती पर रोकने के बाद पुलिस जब अचानक बर्बर तरीके से पीटने लगी तो आठ-दस लाठी खाने के बाद भी दर्द को चेहरे पर न लाने देने वालों में इलाहाबाद के सौरभ सिंह  उत्सर्ग एक्सप्रेस का इंतजार करते मिले। अपना परिचय देते हुए जब कहा कि तुम्हारे अंदर दम है तभी लाठी-डंडा खाने के बाद भी फिर लडऩे के मूड में बैठे हो। सौरभ का जवाब सुनकर कान खड़े हो गए, बोला यह हमारा नहीं यूपी के बेरोजगारी बम का दम है। डिग्री लेकर नौकरी के लिए दर-दर ठोकर खा रहे करोड़ों अभ्यर्थियों की भीड़ कभी सेवायोजन दफ्तर पर लैपटाप से लेकर बेराजगारीभत्ता पाने की आस में टूट पड़ती है तो कभी लाखों की शक्ल में टीईटी की डिग्री लेकर न्याय की जंग लड़ रहे है। न्याय के लिए टकराने की ताकत शरीर से नहीं दिल,दिमाग के साथ पेट से भी पैदा होता है। यही ताकत मेरे अंदर है..सौरभ की यह बात सुनकर दो बच्चों की मां सुषमा भी बोल पड़ी, हमारे अंदर भी यही ताकत है। यही ताकत पोलिंग बूथ पर उमड़ी तो कांग्रेस के सियासी युवराज की मेहनत मिट्ïटी में मिल गई तो मिट्टïी से पले-बढ़े अखिलेश यादव को प्रदेश का युवराज बना दिया। .. सौरभ को बंदे में है दम की तर्ज पर सलाम करने के बाद पीनी से भीगने के बाद चाय की चुस्की ले रहे सहारनपुर से आए विनोद बोले सरकार को टेट पास बेरोजगारों को टेट मैरिट के आधार पर नौकरी देनी चाहिए। उत्तर प्रदेश में टेट पास बेरोजगारों पर लाठियां चलाना सरासर अन्याय है। इस अन्याय को टेट पास बेरोजगार कभी बर्दाश्त नहीं करेंगे। टेट पास बेरोजगारों को आर्थिक और मानसिक बहुत नुकसान हुआ है। टेट में आवेदन प्रक्रिया से लेकर अब तक हजारों रुपये बर्बाद हो चुके हैं और अब वे न्याय की उम्मीद में यहां आए तो सरकार ने उन पर लाठियां बरसाकर टेट पास बेरोजगारों के दुखों में और इजाफ ा ही किया है। हमारी सरकार से गुजारिश है कि टेट पास बेरोजगारों के साथ न्याय करते हुए अविलम्ब उनके लिए नौकरी का रास्ता साफ  किया जाये। गाजियाबाद के दीपक का कहना है टेट स्टूडेंट के साथ अन्याय की हद हो गयी है। मासिक आर्थिक और शारीरिक शोषण किया जा रहा है। मेरठ के अविनाश सिंह का कहना है कुछ अफसरों की वजह से 270000 युवा निराश हो रहे है उन्हें अपना भविष्य अंधकार मय दिखाई दे रहा है। अगर सरकार ने इस मुद्ïे को गंभीरता से न लिया तो यह मंडल आयोग की तरह बड़ा आंदोलन हो जाएगा। हमारी मांग है सरकार जल्दी से जल्दी भर्ती करे। इटावा के बृजेश दीक्षित ने कहा हमारी प्रार्थना नेता जी से है, जिस तरह वह बेरोजगारों की जिंदगी बदलने के लिए लैपटाप,भत्ता आदि बांट रहे हैं, उसी तरह लाखों बेरोजगारों के साथ न्याय करें। गोरखपुर की कृष्णा का कहना है हमारे साथ धोखा हो रहा है। टेट से लेकर आवेदन तक औसतन एक लडक़े का 10000 रुपये का खर्चा हुआ है। माननीय अखिलेश जी से विनम्र निवेदन है कि अब देर न करें और जल्द से जल्द भर्ती प्रक्रिया आगे बढ़ाये, हमें आपसे बहुत आशाएं है।  गाजीपुर के चंदकमल ने कहा अगर सरकार ने भर्ती प्रक्रिया शुरू नहीं करायी तो टेट अभ्यर्थी आत्मदाह भी करने के लिए तैयार हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.