रोमिंग जर्नलिस्ट

शुक्रवार, 26 अप्रैल 2013

अमेरिका के मुंह पर अखिलेश का तमाचा


- आजम के अपमान पर मुख्यमंत्री ने हार्वर्ड विश्वविद्यालय में किया लेक्चर का बायकाट
- आजम ने कहा कि अमेरिका आने पर मुझे खेद है, मुस्लिम होने के कारण ऐसा सलूक
लखनऊ। सुरक्षा के नाम पर जांच-पड़ताल अमेरिकी दादागिरी के खिलाफ उत्तर प्रदेश के युवा मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने विरोध का जोरदार तमाचा मारकर हिन्दुस्तानियों का दिल जीतने का काम किया है। सपा नेता आजम खान के अपमान मामले को लेकर मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने हार्वर्ड लेक्चर का बायकॉट कर दिया है। अखिलेश यादव के इस फैसले पर उनको बधाई देने वालों का तांता उनकी सोशलनेटवर्किंग साइट पर लग गयी है। गौरतलब प्रदेश के नगर विकास मंत्री मोहम्मद आजम खान मुख्यमंत्री के साथ हार्वर्ड विश्वविद्यालय के एक आयोजन में हिस्सा लेने अमेरिका गए है। बुधवार को बोस्टन लोगन अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर उनको पूछताछ के लिए लगभग दस मिनट तक रोके रखा गया। अमेरिका के आव्रजन अधिकारियों द्वारा अमेरिका की घरेलू सुरक्षा के नाम पर हुई पूछताछ का आजम खां ने उसी वक्त विरोध किया था। आजम का आरोप है कि मुस्लिम होने के कारण उन्हें रोका गया है।
प्रदेश के नगर विकास मंत्री के साथ हुए इस दुव्र्यवहार पर न्यूयार्क स्थित भारतीय दूतावास के अधिकारियों ने हस्तक्षेप किया और खान को हवाई अड्डे से सुरक्षा घेरे में बाहर लाया गया। इस घटना को लेकर अमेरिकी अधिकारियों द्वारा खेद न व्यक्त किए जाने पर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने हार्वर्ड विश्वविद्यालय में आयोजित लेक्चर का बायकाट करके कड़ा विरोध जताया है। हार्वर्ड बिजनेस स्कूल में नगर विकास मंत्री मोहम्मद आजम खां ने तो व्याख्यान दिया लेकिन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने बोस्टन में आजम खां के साथ पूछताछ के लिए रोके जाने को एक भारतीय का अपमान बताते हुए खुद लेक्चर का बायकाट कर दिया। नगरविकास मंत्री ने आधिकारिक रूप से एचबीएस में अपना विरोध दर्ज कराया। उन्होंने कहा वे भारत लौटने के बाद अपनी भावी कार्रवाई पर विचार करेंगे। आजम ने अमेरिका आने के अपने फैसले पर खेद जताया है। नगरविकास मंत्री के निजी सहायक मुक्तिनाथ झा ने एक बयान जारी किया जिसमें आजम खान ने आरोप लगाया कि उनकी तलाशी लेने के बहाने घरेलू सुरक्षा विभाग के अधिकारियों ने उनका अपमान किया। उन्होंने आरोप लगाया कि उनके साथ यह व्यवहार इसलिए किया गया, क्योंकि वह मुस्लिम हैं। अमेरिका के अंदर हवाई अड्डे की सभी गतिविधियां घरेलू सुरक्षा विभाग के अधिकार क्षेत्र में आती हैं। वहां के हवाई अड्डों पर भारतीय विशिष्ट व्यक्तियों को रोके जाने का यह प्रकरण सबसे ताजा उदाहरण है। इसके पहले पिछले साल बॉलीवुड अभिनेता शाहरुख खान को न्यूयॉर्क हवाई अड्डे पर पूछताछ के लिए रोका गया था। पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम और अमेरिका में भारतीय राजदूत रहीं मीरा शंकर के साथ भी इस तरह की घटनाएं हो चुकी हैं।

1 टिप्पणी:

Surendra Chaturvedi ने कहा…

दिनेश जी,अच्‍छे कदम की सराहना की जानी चाहिये और अखिलेश ने ठीक ही किया मगर आजम खान को अमेरिकी रवैये से वाकिफ होना चाहिये।बहरहाल आपकी रिपोर्ट अच्‍छी लगी। साधुवाद आपको

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.